गोवा : आईएस के पर्चे बांटने के आरोप में अरेस्ट दोनों लोग रिहा

IS pamphlets accused arrested

IS pamphlets accused arrested

उत्तरी गोवा के पुलिस अधीक्षक उमेश गांओकर ने यह भी कहा कि इनके पिछले  जीवन की छान बीन से आतंकवाद से कोई संबंध नहीं होने का खुलासा हुआ है

पणजी। गोवा में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) के पर्चे बांटने के आरोप में गिरफ्तार 2 लोगों को जिला प्रशासन ने मंगलवार को रिहा कर दिया।

उत्तरी गोवा के पुलिस अधीक्षक उमेश गांओकर ने यह भी कहा कि इनके पिछले जीवन की छान बीन से आतंकवाद से कोई संबंध नहीं होने का खुलासा हुआ है।

उन्होंने कहा कि इनके पास से सोमवार की नाईट जो पर्चे मिले थे, वास्तव में उनमें लिखा था कि वे आईएस (IS) के खिलाफ हैं।

गांओकर ने कहा, वे लोग इस्लाम के सलाफी मत की गति विधियों में शामिल हैं और सच्चे इस्लाम में विश्वास रखते हैं। ये पर्चे कन्नड़ लैग्वेज में हैं और वास्तव में आईएस (IS) की निंदा करते हैं।

चूंकि ये कन्नड़ में थे इसलिए हम लोग इसे तत्काल समझ नहीं पाए। बाद में एक कन्नड़ अनुवादक से इसकी जांच कराई गई।

इलियास यू (U) (34) और अब्दुल नजीर (24) दोनों केरल के कसार गोड के रहने वाले हैं।

पुलिस ने सोमवार को इन्हें तब अरेस्ट किया था जब पणजी के उपनगरीय इलाके डोना पाउला के निवासियों ने पर्चे ले जाते देखा जिन पर कन्नड़ लैग्वेज के साथ आईएस (IS) भी लिखा हुआ था।

गांओकर ने कहा कि दोनों सलाफी सम्मेलन के लिए प्रचार कर रहे थे जो जनवरी में ही मंगलौर में होना है। उन्होंने कहा कि इलियास सम वर्षों से दक्षिण गोवा के मडगांव शहर में रहता है और वह स्टेट की इकलौती सलाफी मस्जिद में ही जाता है जो कि इसी शहर में है।

जब पर्चे के साथ दोनों को स्थानीय लोगों ने पकड़ा था, उस टाइम वे घूमने के लिए डोना पाउला गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *